Tuesday, 5 September 2017

Rasa Chughtai- Mitti jab tak nam rehti hai, khushboo taja-dam rehti hai | रसा चुगताई- मिट्टी जब तक नम रहती है, खुशबू ताज़ा-दम रहती है

मिट्टी जब तक नम रहती है, खुशबू ताज़ा-दम रहती है
उन झील सी गहरी आंखो में, इक लहर सी हरदम रहती है

रसा चुगताई

Mitti jab tak nam rehti hai, khushboo taja-dam rehti hai
Un jheel si gehari aankhon mein, ik lahar si hardam rehti hai 

Rasa Chughtai



No comments:

Post a Comment