Friday, 8 September 2017

Dushyant Kumar- Aaj sadkon par likhe hai saikdon naare na dekh| दुष्यंत कुमार- आज सड़कों पर लिखे है सैकड़ों नारे न देख

आज सड़कों पर लिखे है सैकड़ों नारे न देख 
घर अँधेरा देख तू, आकाश के तारे न देख 

दुष्यंत कुमार 


Aaj sadkon par likhe hai saikdon naare na dekh
Ghar andhera dekh too, akash ke taare na dekh

Dushyant Kumar

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

No comments:

Post a Comment