Monday, 5 September 2016

Haseeb Soz- Ye mera shahr mera kitNa Adab karta tha

ये मेरा शहर मेरा कितना अदब करता था
कुछ कमी आ गई है शायद मेरी खुद्धारी में 

हसीब सोज़ 

Ye mera shahr mera kitNa Adab karta tha 
kuchh kami aa gayee shayad meree khuddari meiN

Haseeb Soz

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Siraj Dehlvi - Khush rahe tu yehee to khushee hai meree

ख़ुश रहे तू यही तो खुशी है मेरी
तेरी खुशियों में ही ज़िंदगी है मेरी

तेरी तारीफ़ दिलबर बयाँ क्या करूँ
अप्सरा है तू ही तू ही परी है मेरी

सिराज देहलवी

Khush rahe tu yehee to khushee hai meree
teree khushiyon meiN hee zindagee hai meree

teree tarif dilbar bayaN kya karu
apsara hai tu hee tu hee pari hai meree

Siraj Dehlvi

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Firaq Gorakhpuri- Aane wali naslein tum par faqr karengi hum asro

आने वाली नस्लें तुम पर फख्र करेंगी हम असरो 
जब भी उन्हें को ध्यान आएगा तुमने फ़िराक़ को देखा है

फ़िराक गोरखपुरी 

Aane wali naslein tum par faqr karengi hum asro 
jab bhee unko dhyan aayega tum Ne firaq ko dekha haiak

Firaq Gorakhpuri

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Dixit Dankauri - Aap kyon haiN khafaa, kuchh pataa to chale

आप क्यों हैं ख़फ़ा,कुछ पता तो चले 
मेरी क्या है ख़ता, कुछ पता तो चले

मैं तो राज़ी हूं तेरी रज़ा में, मगर
तेरी क्या है रज़ा,कुछ पता तो चले

दीक्षित दनकौरी 

Aap kyon haiN khafaa, kuchh pataa to chale 
meri kya hai khataa, kuchh pataa to Chale

Main to razi hoon teri razaa meiN, magar 
teri kya hai raza, kuchh pata to chale

Dixit Dankauri

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Phale bhee kuchh logon ne jau bo kar gehun chaha tha


पहले भी कुछ लोगों ने जौ बो कर गेहूँ चाहा था
हम भी इस उम्मीद में हैं लेकिन कब ऐसा होता है

जावेद अख्तर

Phale bhee kuchh logon ne jau bo kar gehun chaha tha
hum bhee is ummid mein haiN lekin kab aisa hota hai

Javed Akhtar

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Jab kabhee phooloN ne khushboo kee tijarat kee hai


जब कभी फूलों ने ख़ुश्बू की तिजारत की है
पत्ती पत्ती ने हवाओं से शिकायत की है

सर उठाए थी बहुत सुर्ख़ हवा में फ़िर भी
हम ने पलको से चिराग़ों की हिफाज़त की है

राहत इंदौरी

Jab kabhee phooloN ne khushboo kee tijarat kee hai
patti patti Ne hawaon se shikayat kee hai

sir uthaye thee bahut surkh hawa meiN phir bhee
humne palkoN se chiraqon kee hifazat kee hai

Rahat Indori

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,