Sunday, 8 March 2015

Aziz Lakhnavi- Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge


Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge
Main ne parda jo uthaya to kayamat nikali 

Aziz Lakhnavi

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे
मैं ने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली

(खल्वत  =  एकांत)

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Suroore-shab ki nahin subah ka khumar hun main


Suroore-shab ki nahin subah ka khumar hun main
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahaar hun main

Aziz Lakhnavi 

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं

(सुरूरे-शब = रात का चढ़ता हुआ नशा; खुमार = सुबह का उतरता हुआ नशा)

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Jhoothe wadon par thi apni zindagi


Jhoothe wadon par thi apni zindagi
Ab to yah bhi aasara jata raha

Aziz Lakhnavi

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी
अब तो यह भी आसरा जाता रहा

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Visale-dayami kya hai, shabe-furkat mein mar jana


Visale-dayami kya hai, shabe-furkat mein mar jana 
Kaza kya hai, dili jajbat ka had se gujar jana 

Aziz Lakhnavi

विसाले-दायमी क्या है, शबे-फुर्कत में मर जाना
कजा क्या है, दिली जज्बात का हद से गुजर जाना

(विसाले-दायमी  =  न खत्म होने वाला मिलन; शबे-फुर्कत  =  विरह की रात; कजा  =  मौत; जज्बात  =  भावना)

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Bhala jabat ki bhi koi intiha hai


Bhala jabat ki bhi koi intiha hai
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale

Aziz Lakhnavi

भला जब्त की भी कोई इन्तिहा है
कहाँ तक तबिअत को अपनी संभाले

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena


Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena 
Munasib ho to ik din hathon se apne dawa dena

Aziz Lakhnavi

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना

(शिफा  =  रोगमुक्ति) 

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana


Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana 
Ki aane ka bhi na kisi ne intizar kiya 

Aziz Lakhnavi

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना
कि आने का भी न किसी ने इन्तिजार किया

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Tanveer Ghazi- Meri aankhon mein mohabbat ki chamak aaj bhi hai


Meri aankhon mein mohabbat ki chamak aaj bhi hai
Haalanki usko mere pyar pe shaq aaj bhi hai 

Naav mein baith ke dhoye the usne haath kabhi
Pure talab mein mehandi ki chamak aaj bhi hai 

Tanveer Ghazi

मेरी आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है
हांलाकि उसको मेरे प्यार पे शक आज भी है

नाव में बैठ के धोए थे उसने हाथ कभी
पुरे तालाब में मेहँदी  की चमक आज भी है

तनवीर ग़ाज़ी
                                  
Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Kafan bandhe hue sar se aaye hain warna


Kafan bandhe hue sar se aaye hain warna
Ham aur aap se is tarah guftgoo karte
Jawab hazrate-naseh ko ham bhi kuch dete
Jo guftgoo ke tarike se guftgoo karte

Aziz Lakhnavi 

कफन बांधे हुए सर से आये हैं वर्ना
हम और आप से इस तरह गुफ्तगू करते
जवाब हजरते-नासेह को हम भी कुछ देते
जो गुफ्तगू के तरीके से गुफ्तगू करते

(हजरत - किसी बड़े व्यक्ति के नाम से पहले सम्मानार्थ लगाया जाने वाला शब्द;  नासेह - नसीहत करने वाला, सदुपदेशक)

अज़ीज़ लखनवी

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,

Aziz Lakhnavi- Kafas mein jee nahin lagta hai. aah phir bhi mera


Kafas mein jee nahin lagta hai. aah phir bhi mera
Yah janta hoon ki tinka bhi aashiyan mein nahin

Aziz Lakhnavi

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं

(कफस  =  पिंजरा, कारागार)

अज़ीज़ लखनवी 

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry,